सोमवार, 2 अगस्त 2010

गर हिम्मत हो ....

इस ज़माने की अक्सर तल्खियो ने मुझे सिखाया है
क़ि गर हिम्मत हो तो ज़हर भी है एक चीज खाने की ...

1 टिप्पणी: