शुक्रवार, 4 फ़रवरी 2011

नारी जीवन झूले की तरह


नारी जीवन झूले की तरह
इस पर कभी उस पर कभी ॥
आँखों में अंसुवन की धार कभी
मन में मधुर मुस्कान कभी ॥

4 टिप्‍पणियां:

  1. मै कहीं कवि ना बन जाउ....तेरे प्यार में ओ.............

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर शब्द चित्र..शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया,
    बड़ी खूबसूरती से कही अपनी बात आपने.....

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर
    बहुत बढ़िया,
    humari sanskarti ki jhalak
    http://unluckyblackstar.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं